Saturday, May 6, 2017

रंगमंच के ‘बहरूपिया’ रिशि मेहता... थियेटर के ‘डेविड धवन’ के संघर्ष की दास्तां

‘ग्राउंड ज़ीरो’ के छठे एपिसोड में पढ़िए रिशि मेहता की कहानी। इंटरटेनमेंट की दुनिया में रुचि रखने वाले रिशि के बारे में ज़रूर जानते होंगे । दिल्ली रंगमंच की दुनिया में रिशि का सफर ज्यादा पुराना तो नहीं लेकिन थियेटर के प्रति लगाव बचपन से ही रहा। इनकी कंपनी बहरूपिया इंटरटेनर को अस्तित्व में आए महज चार साल का वक्त हुआ। लेकिन इतने कम वक्त में इस कंपनी ने अपने नाटकों और कॉमेडी शोज से लोगों को मनोरंजन से सराबोर कर नया कीर्तिमान बनाया । रिशि मेहता न सिर्फ एक एक्टर और डायरेक्टर हैं  बल्कि प्रोड्यूसर भी हैं । ज़रूरत के मुताबिक हर रोल निभाना इन्हें बखूबी आता है। कहने को तो देश की राजधानी दिल्ली रंगमंच का गढ़ है जिसमें तपकर कई हीरे निकले और मायानगरी में नाम रोशन कर रहे हैं  लेकिन यहां के रंगमंच की माली हालत किसी से छिपी नहीं है। ऐसे में क्वालिटी थियेटर का जिक्र आने पर बरबस ही रिशि मेहता का नाम आ जाता है । रिशि को थियेटर का डेविड धवन कहा जाए तो कोई अतिशयोक्ति न होगी क्योंकि रंगमंच के लोटे में मनोरंजन की जो लस्सी इनके नाटकों में मिलती है वो कहीं और दुर्लभ है। क्योंकि उसमें लिपटी होती है विशुद्ध मनोरंजन की मलाई । रिशि के निर्देशन में रे कूनी का लिखा नाटक ‘रन फॉर योर वाइफ’ बेहद ही चर्चित रहा है। पिछले डेढ़ साल में इस रोमांटिक कॉमेडी नाटक के लगभग 50 शो हो चुके है। रिशि बचपन से ही अभिनेता बनना चाहते थे, लेकिन पारिवारिक समस्याओं ने ऐसा तानाबाना बुना जिसके जाल में अभिनय का ये सिकंदर उलझ गया। मनमुटाव के चलते पिताजी सारी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ चुके थे। लिहाजा मां समेत पूरे परिवार की जिम्मेदारी के आगे रिशि को मन मसोसकर अपने सपने को मारना पड़ा । बिजनेस शुरु किया लेकिन परेशानियों का सिलसिला लगातार जारी रहा । बिजनेस के जरिए धीरे-धीरे आर्थिक स्थिति सुधरने लगी, साथ ही रंगमंच के प्रति रिशि की दीवानगी दिनोंदिन बढ़ती गई। वक्त की कमी के चलते रंगमंच के लिए कुछ न कर पाने से रिशि अक्सर बौखला जाते थे। रह-रहकर एक कलाकार का मन कुलांचे मारने लगता। जद्दोजेहद का ये सिलसिला एक-दो नहीं बल्कि सोलह साल चला। सन् 2013 में रिशि ने बहरूपिया इंटरटेनर नाम से कंपनी बनाई । जिसका मुख्य मकसद है लोगों का सौ फीसदी मनोरंजन करना । इस कंपनी के अंतर्गत न सिर्फ नाटक मंचित होते हैं बल्कि इनके पास एक्टर्स, डायरेक्टर्स, राइटर, स्टेंडप कॉमेडियन से लेकर कॉरपोरेट शो करने वालों की एक लंबी फौज है। जो ज़रूरत के मुताबिक लोगों को मनोरंजन का डोज देने के लिए हमेशा रेडी रहते हैं। मजबूरी के चलते कैसे सपनों की बलि चढ़ जाती है ये भला रिशि से बेहतर कौन जान सकता है । इसलिए उभरते कलाकारों को प्लेटफॉर्म मुहैया कराने के लिए बहरूपिया का अस्तित्व में आना ज़रूरी था। जहां पर कलाकार अपनी सुविधानुसार व्यावसायिक रूप से काम करते हुए अपने प्रोफेशन को पैशन बना सकता है । जहां एक ओर उभरते कलाकारों को मौका मिल रहा है वहीं अब रिशि अपनी मनचाही विधा में दिनोंदिन सफलता के झंडे गाड़ रहे हैं। रिशि के संघर्ष की पूरी दास्तां और बहरूपिया की सफलता को करीब से जानने के लिए आपको ये पूरा इंटरव्यू पढ़ना होगा। क्योंकि ‘ग्राउंड ज़ीरो’ ने की है बारीकी से पड़ताल 

सवाल- सबसे पहले आप अपने बारे में बताइए ।

जवाब- मेरा नाम रिशि मेहता है । मूल रूप से दिल्ली का रहने वाला हूं।

सवाल- शुरुआती पढ़ाई-लिखाई कहां से हुई ?

जवाब- दिल्ली से ही हाईस्कूल और इंटरमीडियट की पढ़ाई पूरी की। कंप्यूटर साइंस में पोस्ट ग्रेजुएशन किया।

सवाल- रंगमंच के प्रति जुड़ाव कैसे हुआ ?

जवाब- स्कूल के दिनों से ही ड्रामा में पार्टिसिपेट करने लगा था । कॉलेज में हमारा ग्रुप बड़े लेवल पर परफॉर्मेंस देने लगा । इस दौरान हमनें कई नाटक किए । धीरे-धीरे ये सिलसिला बढ़ता गया ।

सवाल- आपने थियेटर की कोई एकेडमिक ट्रेनिंग ली या नहीं ?

जवाब- मैंनें थियेटर की कोई एकेडमिक ट्रेनिंग नहीं ली । जो सीखा ग्रुप के साथ काम करके सीखा, नाटकों में काम करके सीखा । दिल्ली में था लिहाजा एनएसडी या श्रीराम सेंटर फॉर परफॉर्मिंग आर्ट्स जैसे एक्टिंग इंस्टीट्यूट के लिए आवेदन दे सकता था लेकिन परिस्थितियों को ये सब मंजूर नहीं था । कॉलेज खत्म होने तक नाटकों में काम करने का ये सिलसिला चलता रहा ।


सवाल- रंगमंच छोड़कर अचानक सॉफ्टवेयर कंपनी खोलने का ख्याल कैसे आया ?

जवाब- कॉलेज पूरा होने के बाद नौकरी नहीं मिली। रंगमंच के जरिए पेट पालना मुश्किल हो गया । पिताजी से हमारा अक्सर मनमुटाव रहता था। जिसके चलते वो सारी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ चुके थे। घर की आर्थिक स्थिति खराब थी। इसलिए पहले एक साल तक दिल्ली में ही टेगोर इंटरनेशनल स्कूल में एक टीचर के रूप में काम किया । सन् 1997-1998 में C-SOFT  नाम से अपनी खोल ली ।

सवाल- आपकी कंपनी (C-SOFT) क्या काम करती है ?

जवाब- हमारी कंपनी का मुख्य काम है पब्लिशिंग इंडस्ट्री के लिए कस्टोमाइज सॉफ्टवेयर बनाना । इनमें से ERP एक प्रमुख सॉफ्टवेयर है । इसके अलावा वेबसाइट डिजाइन, वेब होस्टिंग, वेब बेस्ड सॉल्यूशन, सर्च इंजन ऑप्टीमाइजेशन, कॉरपोरेट प्रेजेंटेशन, ई-बुक डिवलेपमेंट, डिजिटल मार्केटिंग सर्विसेज भी हमारी कंपनी प्रोवाइड करती है । पेंगुइन जैसे जाने-माने पब्लिशर्स के लिए भी हम काम कर चुके हैं ।

सवाल- बहरूपिया इंटरटेंनर्स कैसे अस्तित्व में आया ?

जवाब-     C-SOFT कंपनी को चलाते हुए करीब 14 साल गुजर चुके थे । कमाई भी ठीक-ठाक हो रही थी लेकिन कला के लिए कुछ न कर पाने का मलाल हमेशा रहता था । कभी-कभी तो अचानक मन इतना बेचैन हो उठता कि जी करता कि सब कुछ छोड़कर बस रंगमंच की दुनिया में वापस लौट   आऊं। मन नहीं माना तो 2012 में गुड़गांव के एक एनजीओ से जुड़ा जिसका नाम था गुड़गांव थियेटर ग्रुप । इस ग्रुप के साथ बहुत से नाटक किए लेकिन कुछ अनबन के चलते यह ग्रुप छोड़ना पड़ा । अंत में हमनें खुद की कंपनी खोलने की सोची और जनवरी 2013 में मैं और मेरे तीन और दोस्तों ने मिलकर एक कंपनी बनाई जिसका नाम रखा बहरूपिया इंटरटेंनर्स । एक साल साथ में काम करने के बाद दोस्तों में कुछ मनमुटाव हो गया । फाइनली कंपनी के सारे शेयर मैंने खरीद लिए और यह कंपनी पूरी तरीके से मेरी हो गयी । कंपनी खोलने के दौरान शुरुआती दिनों में रूपेश टिल्लू, दीपल दोषी, आलोक उल्फत, श्रुति उल्फत ने बड़ी मदद की । कंपनी खोलने के बाद एक तसल्ली यह हुई कि चलो कम-से-कम में एक एक्टर नहीं बन पाया लेकिन इस कंपनी के प्रोड्यूस नाटकों से दर्शकों का मनोरंजन तो होगा ।


सवाल- बहरूपिया इंटरटेंनर्स के बारे में बताइए ।

जवाब-  बहरूपिया इंटरटेंनर्स एक इंटरेनमेंट कंपनी है जिसका काम हर उम्र और हर वर्ग के दर्शकों का विशुद्ध मनोरंजन करना है । हमारी कंपनी न सिर्फ बड़े-बड़े नाटकों के शो का आयोजन का करती है बल्कि इंडिया के फेमस कॉमेडियंस को लेकर कॉमेडी शोज के रेगुलर परफॉर्मेंस भी करवाती है । इसके अलावा लोगों की ज़रूरत के मुताबिक कॉरपोरेट शोज का भी आयोजन करवाती है । हमारी कंपनी के पास एक्टर्स, डायरेक्टर्स, राइटर्स, कॉमेडियंस की एक लंबी टीम है जो दर्शकों की ज़रूरत के मुताबिक उनका मनोरंजन करने के लिए चौबीसो घंटों तैयार रहती है । दिल्ली के Alliance Francaise, एपिसेंटर, और अक्षरा थियेटर में हमारे लगातार पब्लिक शोज होते रहते हैं। हमारी इस कंपनी में नए एक्टर्स को ट्रेनिंग भी दी जाती ह । हम लोग वीकेंड थियेटर ट्रेनिंग प्रोग्राम भी चलाते हैं।

सवाल- बहरूपिया इंटरटेंनर्स के कुछ फेमस प्ले और शोज के नाम बताइए ।


जवाब- रन फॉर योर वाइफ (world's longest running comedy ), बोइंग-बोइंग, द पार्क, मेडबेथ, ए टेल ऑफ टू ट्रेटीज, लेट्स टॉक बाउट सेक्स, दुलारी धमाल, गेस्ट लिस्ट etc. । जिसमें से ‘रन फॉर योर वाइफ’ नाटक इतना लोकप्रिय होगा हमनें कभी नहीं सोचा । लोगों को यह नाटक इतना पसंद आया कि दर्शकों की भारी डिमांड पर इसके कई शो करने पड़े । कई बार कोई दर्शक जब मुझसे अकेले में मिलकर कहता है कि रिशि आपका ‘रन फॉर योर वाइफ’ नाटक टोटली पैसा वसूल है तो सच में बड़ी संतुष्टि मिलती है । इस नाटक में को मैं ने डायरेक्ट किया है और ज़रूरत पड़ने पर मैं इसमें एक्ट भी करता हूं। इस नाटक की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसे सिर्फ एक कमरे में किया जा सकता है ।

सवाल - बहरूपिया इंटरटेंनर्स के कुछ कॉमेडी शोज के नाम बताइए ।

जवाब-Things They Wouldn't Let Me Say, The Sundeep Shawarma Show, Bong Talkies, INDIA 3D, appurv view, Improv Premier League, Third World Comedy, Saanu kee, Forced to be Single, Tandon Talkies, Ek Mulaqat Manto Se, massage, Turban Legends etc.

सवाल- कुछ फेमस कॉमेडियंस के नाम बताइए जिन्होंने बहरूपिया इंटरटेंनर्स के साथ काम किया ?

जवाब- हमारे साथ काम करने वालों में राकेश बेदी, नीति पाल्टा, अदिति मित्तल, अविजीत गांगुली, अमित टंडन, जाकिर खान, अपूर्व गुप्ता, संदीप शर्मा, जीवेशु अहलूवालिया, सुमित नंद, अनिर्बन दासगुप्ता, निशांत तंवर, किशोर दयानी के अलावा और भी बहुत सारे कॉमेडियन हैं।

सवाल- इतनी सारी उपलब्धियां मिलने के बाद अब कैसा महसूस करते हैं ?

जवाब- सच में बड़ा सुकन मिलता है जब हम अपने पसंदीदा फील्ड में काम करते हैं । पहले मन व्याकुल रहता था लेकिन अब मन को संतुष्टि मिलती है । अब मैं खुद के निर्देशित नाटकों में अभिनय भी कर सकता हूं। अच्छा लगता है जब लोग हमारे नाटकों की तारीफ करते हैं ।

सवाल- अगर कोई अपसे जुड़ना चाहे तो कैसे जुड़ सकता है ?

जवाब- फेसबुक पर रिशि मेहता नाम से मौजद हूं, BEHROOPIA ENTERTAINERS  नाम से हमारी कंपनी का पेज है फेसबुक पर । इसके अलावा BEHROOPIA ENTERAINERS   की वेबसाइट पर जाकर कोई भी हमसे संपर्क करने के लिए जानकारी ले सकता है ।

सवाल- ‘ग्राउंड ज़ीरो’ के बारे में क्या कहेंगे ?

जवाब- बहुत ही अच्छी पहल है जिसके जरिए लोगों के संघर्ष की दास्तान को सोशल मीडिया पर लाया जा रहा है । ‘ग्राउंड ज़ीरो’ इसके लिए बधाई का पात्र है । बहुत-बहुत शुभकामनाएं ।

(ग्राउंड ज़ीरो के अगले एपिसोड में पढ़िए मिसाल कायम करने वाले एक और धमाकेदार शख्स का इंटरव्यू, जो होगा हमारे और आपके बीच का )

(अगर आपके पास भी है किसी ऐसे शख्स की कहानी जिसने किया है सोचने पर मजबूर। वो आप खुद भी हो सकते हैं, आपका कोई जानने वाला हो सकता हैं, आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार भी हो सकता है। तो आप हमें बताइए। हम करेंगे ‘ग्राउंड ज़ीरो’ से पड़ताल और छापेंगे उसकी मिसालभरी दास्तां। देखेंगे दुनिया उसकी नज़र से। )  

संपर्क- ग्राउंड ज़ीरो
ई-मेल कीजिए: vdvishaldubey175@gmail.com
  
फॉलो कीजिए:
 ब्लॉग-      http://vishaldubeyaka3d.blogspot.in/

Facebook:  https://www.facebook.com/vishal.dubey.9256

Twitter:     https://twitter.com/Dubey3d

फोन कीजिए: +91 8800 777 275 , 7838 927 462
 
 
 


          



Monday, March 27, 2017

आशीष के स्टार्टअप ने मचाई धूम, पढिए फर्श से अर्श तक पहुंचने की कहानी


ग्राउंड ज़ीरो के पांचवे एपिसोड में पढ़िए एंटरप्रेन्योर आशीष पाण्डेय की कहानी। जिनकी ज़िंदगी की बस एक ही फिलॉसफी है - We love what we do. आशीष के बारे में भले ही ज्यादा लोग न जानते हों क्योंकि इनका परिचय तो साधारण है लेकिन उपलब्धियां बड़ी । आशीष की कंपनी का नाम है W3BMINDS. जिसका मुख्य काम है लोगों के बिजनेस को सही दिशा देना ताकि बिजनेस करने वाला ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट कमा सके। आशीष की कंपनी बिजनेस के नेचर को देखते हुए एक सी स्ट्रेटजी बनाती है जिसके जरिए उस बिजनेस में सफलता के चांसेज बढ़ जाते हैं। लखनऊ की गलियों में कभी टूटी-फूटी साइकिल और अब लग्जरी कार से चलने वाले आशीष के लिए ये सफर कतई आसान नहीं रहा । एमबीए का कोर्स पूरा करने के बाद आशीष ने Creambell (आईस्क्रीम बनाने वाली कंपनी) में इंटर्नशिप की । आशीष शुरु से ही अपना बिजनेस करना चाहते थे, एक सा बिजनेस जिसमें खुद की आजादी हो और बिजनेस के जरिए दूसरों की भी मदद की जा सके । सपने को हक़ीकत में बदलने के लिए आशीष ने नौकरी छोड़ दी। कहते हैं  ‘’मैं अकेला ही चला था राहें मंज़िल, मगर लोग मिलते गए और कारवां बनता गया’’ कुछ ऐसा ही हुआ आशीष के साथ । उनके दो भाइयों रिशीष पाण्डेय, आकाश पाण्डेय  और उनकी दोस्त शेफाली ने भी नौकरी की तिलांजलि देकर आशीष के बिजनेस में हाथ बढ़ाना उचित समझा। और इस तरह इन सबने मिलकर 2011 में खुद का स्टार्टअप शुरु किया । कहतें हैं जिद के आगे पहाड़ भी झुकता है, उसी का नतीजा है W3BMINDS का अस्तित्व में आना। आज यह कंपनी देश की चुनिंदा कंपनियों में शामिल है जो इस डिजिटल इरा में बिजनेस करने वालों के लिए नया आयाम लिख रही है । यह कंपनी न सिर्फ भारत बल्कि विदेशों में भी सर्विस प्रोवाइड कर रही है । जहां एक ओर आज के दौर में नौकरियों की भारी किल्लत है, बेरोजगारी मुंह बाए खड़ी है , से में एक अलग तरह का स्टार्टअप शुरु करके आशीष ने युवाओं में रोजगार की नयी उम्मीद जगायी है । आखिर ये सब कैसे संभव हुआ ये जानने के लिए आपको ये पूरा इंटरव्यू पढ़ना होगा। क्योंकि ग्राउंड ज़ीरो ने की है  इस हक़ीकत की पड़ताल

सवाल- सबसे पहले आप अपने बारे में बताइए ।

जवाब- मेरा नाम आशीष पाण्डेय है । मूलरूप से यूपी के बाराबंकी के एक गांव का रहने वाला हूं।

सवाल- शुरुआती पढ़ाई-लिखाई कहां से हुई ?

जवाब- यूपी बोर्ड से हाईस्कूल और इंटरमीडियट की पढ़ाई पूरी की। बीसीए में स्नातक किया ।

सवाल- अपना स्टार्टअप शुरु करने का ख्याल कैसे आया ?


जवाब- मैं हमेशा से अपना ही बिजनेस करना चाहता था। क्योंकि मैं आजादपसंद इंसान हूं। लेकिन परिस्थितियां अनुकूल नहीं थीं । IIT में मेरा सिलेक्शन नहीं हुआ तो पहले बीसीए कंपलीट किया उसके बाद एमबीए किया। कोर्स पूरा होते ही Creambell कंपनी में इंटर्नशिप करनी शुरु कर दी जो कि आइसक्रीम बनाने वाली कंपनी है। लेकिन कुछ पारिवारिक समस्याओं के चलते मुझे घर वापस लौटना पड़ा । वापस दिल्ली न जाकर हम सबने यहीं पर अपना बिजनेस शुरु करना उचित समझा । और इस तरह 2011 में www bminds technologies pvt. Ltd. नाम से लखनऊ में अपनी कंपनी शुरु की।

सवाल- आपकी कंपनी का मुख्य काम क्या है ?  कैसे आप दूसरों के बिजनेस को आगे बढ़ाने में मदद करते हैं ?

जवाब- हमारे पास बिजनेस के अनुभवी और ट्रेंड लोगों की एक टीम है । कोई भी इंसान अगर किसी भी तरीके का बिजनेस शुरु करना चाहता है या खुद का स्टार्टअप करना चाहता है लेकिन वो क्फ्यूज है, मसलन इस बिजनेस को करने से क्या फायदा होगा, क्या नुकसान होगा, बिजनेस के लिए पूंजी कैसे जुटाएं, बिजनेस को सही तरीके से शुरु करने का क्या तरीका है, बिजनेस को आगे कैसे बढ़ाएं। इन सारे सवालों का जवाब हमारी टीम के पास है । हमारी टीम न सिर्फ उस इंसान को बेहतर तरीके से कंसल्ट करती है बल्कि उस बिजनेस के लिए स्ट्रेटजी भी बनाती है। जिसके जरिए उस बिजनेस में सफलता के चांसेज बढ़ जाते हैं । बशर्ते उस इंसान में भी काम को लेकर जुनून होना चाहिए और वो हमारे बताए गए स्टेप्स को बाकायदा फॉलो करे।  आज का जमाना डिजिटल का है । मान लिया जाए कोई ई-बिजनेस करना चाहता है तो हमारी टीम उस बिजनेस से संबंधित वेबसाइट बनाने से लेकर, ग्राफिक डिजाइन, वेबसाइट का कंटेंट, बिजनेस को ऑनलाइन कैसे प्रोमोट किया जाए, बेवसाइट का डाटाबेस और इंटरएक्टिव प्रोग्रामिंग जैसे महत्तवपूर्ण बिंदुओं पर काम करती है । तभी आप मार्केट में दूसरी कंपनियों से कंपीट कर पाएंगे

सवाल- इसके अलावा और क्या प्रोजेक्ट चल रहे हैं ?

जवाब- इसके अलावा TheTuitionTeacher.com नाम से हम एक ऑनलाइन वेबसाइट चलाते हैं । जिसका मुख्य मकसद है स्टूडेंट को आसानी से उनके सब्जेक्ट के मुताबिक ट्यूटर प्रोवाइड करना और ट्यूटर को जॉब प्रोवाइड करना। इस वेबसाइट पर जाकर ज़रूरत के मुताबिक कोई भी स्टूडेंट और टीचर अपने आप को रजिस्टर कर सकता है, प्रोफाइल बना सकता है । ये एक सा प्लेटफॉर्म है जिसके जरिए स्टूडेंट, टीचर और स्टूडेंट के माता-पिता एक दूसरे से आसानी से जुड़ सकते हैं । इस समय लगभग 12,000 होम ट्यूटर की प्रोफाइल हमारे इस पोर्टल पर मौजूद है जो अलग-अलग जगहों पर सेवाएं दे रहे हैं । साथ ही 8,000 से ज्यादा पैरेंट्स इससे लाभान्वित हो रहे हैं लखनऊ के आसपास के इलाकों में यह प्लेटफॉर्म वरदान साबित हो रहा है । स्टूडेंट्स को बस एक क्लिक पर उनकी ज़रूरत के मुताबिक टीचर्स उपलब्ध हैं और टीचर्स को आसानी से पढ़ाने के लिए स्टूडेंट्स मिल जाते हैं

सवाल- आने वाले समय में और क्या प्रोजेक्ट लेकर आने वाले हैं ?

जवाब- बहुत जल्द हम लोग एक सा एप लॉंच करने जा रहे हैं जिसके जरिए लोग अपनी इंग्लिश कम्यूनिकेशन को इंप्रूव कर सकते हैं । इस एप्लीकेशन का नाम है Engvarta और इसकी वेबसाइट है Engvarta.com । सबसे पहले आपको इस एप को इंस्टाल करना होगा । एप को क्लिक करते ही एक इंग्लिश एक्सपर्ट आपसे अगले 15 मिनट तक अंग्रेजी में वार्तालाप करेगा। आपके सारे सवालों का जवाब अंग्रेजी में देगा साथ ही आपको मोटिवेट करेगा । 15 मिनट पूरा होते ही फोन डिसकनेक्ट हो जाएगा । आप ज्यादा बात करना चाहते हैं तो यही प्रक्रिया दोहरा सकते हैं । इस एप को लाने का हमारा मुख्य मकसद हैं जो लोग इंग्लिश तो बोलना चाहते हैं लेकिन उनको इंग्लिश का वातावरण नहीं मिल पाता कि आखिर किस के साथ संवाद किया जाए । इस एप्लीकेशन के जरिए इंग्लिश कम्यूनिकेशन को इंप्रूव करने में बड़ी मदद मिलेगी ।

सवाल- कंपनी को इस मुकाम तक पहुंचाने में शुरुआत में क्या-क्या परेशानियां आयी ?

जवाब- देखिए हर बिजनेस में रिस्क होता है, हर बड़े काम में शुरुआत में दिक्कतें तो आती ही हैं । हमारे साथ भी यही हुआ । शुरूआत में पूंजी की दिक्कत हुई। हमनें और हमारे की-मेंबर्स ने कई महीनों तक बिना सेलरी लिए काम किया लेकिन कर्मचारियों को कभी निराश नहीं किया। उनको मेहनताना समय से दिया ताकि काम प्रभावित न हो । हमारी टीम ने एक दूसरे को हमेशा सपोर्ट किया। सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ते रहे। और हमनें ठान ली थी कि हार नहीं मानेंगे।

सवाल- पांच साल पहले जब कंपनी की शुरुआत हुई तब और अब जब लगातार 
सफलता की सीढ़ियां चढते जा रहे हैं, कैसा महसूस करते हैं ?

जवाब- मैं हमेशा अपने आपको लर्नर मानता हूं। पांच साल पहले भी सीखता था, हां थोड़ा काम करने का तरीका अलग था । आज हमनें एक प्लेटफॉर्म तैयार कर लिया है लेकिन अब उसके आगे की चीजें सीख रहा हूं। और सच बताऊं तो सबसे ज्यादा आत्मसंतुष्टि तब मिलती है जब हमारा कोई क्लाइंट बिजनेस में तरक्की करता है। मेरे लिए इससे ज्यादा खुशी की बात और क्या होगी कि आज मैं कुछ लोगों को रोजगार दे पा रहा हूं। कंपनी का हर सदस्य मेरे लिए परिवार की तरह है ।

सवाल- अगर कोई आपसे जुड़ना चाहे या फिर बिजनेस से संबंधित आपके कंपनी की सेवाएं लेना चाहे तो कैसे जुड़े ?

जवाब- कोई भी शख्स बिना किसी संकोच के हमारी वेबसाइट W3bminds.com पर जाकर हमारी कंपनी के बारे में पूरी जानकारी ले सकता है। हमसे संपर्क कर सकता है। फेसबुक के जरिए भी हमसे जुड़ सकता है

सवाल- ग्राउंड ज़ीरो के बारे में आप क्या कहेंगे ?

जवाब- यह बहुत ही अच्छी पहल है । जिसके जरिए से लोगों के संघर्ष की कहानियों को लोगों के सामने लाया जा रहा है जिनके बारे में अमूमन बहुत ही कम लोग जानते हैसी स्टोरीज लोगों को ज़रूर इंस्पायर करती हैं और अगर एक भी शख्स इससे इंस्पायर हुआ तो आपका यह कदम सार्थक माना जाएगा । भविष्य के लिए शुभकामनाएं।

(ग्राउंड ज़ीरो के अगले एपिसोड में पढ़िए मिसाल कायम करने वाले एक और धमाकेदार शख्स का इंटरव्यू, जो होगा हमारे और आपके बीच का )

(अगर आपके पास भी है किसी से शख्स की कहानी जिसने किया है सोचने पर मजबूर। वो आप खुद भी हो सकते हैं, आपका कोई जानने वाला हो सकता हैं, आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार भी हो सकता है। तो आप हमें बताइए। हम करेंगे ग्राउंड ज़ीरो से पड़ताल और छापेंगे उसकी मिसालभरी दास्तां। देखेंगे दुनिया उसकी नज़र से। )  

संपर्क-
ई-मेल कीजिए: vdvishaldubey175@gmail.com
    
फॉलो कीजिए:
ब्लॉग-      http://vishaldubeyaka3d.blogspot.in/


Twitter:     https://twitter.com/Dubey3d

फोन कीजिए: +91 8800 777 275 , 7838 927 462
 


  

 



 

Tuesday, February 21, 2017

रंगमंच के पुरोधा भूपेश जोशी की संघर्ष 'गाथा'

‘ग्राउंड ज़ीरो’ के चौथे एपिसोड में पढ़िए जाने-माने रंगकर्मी और अभिनेता भूपेश जोशी की कहानी । ‘’मुश्किलों से जो डरते हैं, जलीले खार होते हैं, बदल दे वक्त की तक़दीर वो खुद्दार होते हैं’’ । किसी की कही ये पंक्तियां भूपेश पर बिल्कुल सटीक बैठती हैं। क्योंकि रंगमंच के पीछे की सारी पीड़ाओं से अगर किसी इंसान को एक साथ गुज़रना पड़े तो वह घनघोर हताशा से घिर जाएगा। उसे लगेगा मानो वह पूरी तरह से आग की लपटों से घिर चुका है। लेकिन इन्हीं तपती लपटों में तपकर रंगमंच का एक हीरा हम सब के बीच मौजूद है जिनका नाम है भूपेश जोशी। भूपेश का रंगमंचीय सफर युवा रंगकर्मियों और अभिनेताओं को न सिर्फ मोटिवेट करता है बल्कि इस बात को भी पुख्ता करता है कि सच्चे दिल से कुछ भी करना चाहो तो सारी कायनात भी आपकी मदद करने के लिए उतावली हो जाती है। रंगमंच की दुनिया में भूपेश किसी परिचय के मोहताज नहीं। अभिनेता के रूप में 60 से ज्यादा नाटकों के 500 शो, निर्देशक के रूप में 25 से ज्यादा नाटकों का निर्देशन, अभिनय टीचर के रूप में 300 से ज्यादा प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षित कर चुके हैं । ये आंकड़ें उनके अभिनय की दुनिया में धाकड़ होने की गवाही ज़रूर देते हैं लेकिन सफलता के इस मुकाम के पीछे छिपी है पिछले 24 सालों की एक ऐसी यात्रा  जिसके ऊबड़-खाबड़ रास्ते में मुसीबतों की अनगिनत ठोकरें भी भूपेश के फौलादी इरादों को डिगा न पाई। पिथौरागढ़ की गलियों में होने वाली रामलीला से लेकर भारतेंदु नाट्य एकेडमी, लखनऊ और फिर दिल्ली के श्रीराम सेंटर तक का सफर । रंगमंच के इस संसार में खुद को साबित करने के लिए उन्हें तक़दीर और तदबीर के कई आयामों से होकर गुज़रना पड़ा है । घरवालों ने भूपेश को कभी इंजीनियर बनाने का ख्वाब देखा था क्योंकि उन्हें इस बात का ज़रा भी इल्म नहीं था कि आखिर रंगमंच किस चिड़िया का नाम है । लेकिन भूपेश ने रंगमंचरूपी चिड़िया के पर तो बहुत पहले ही गिन लिए थे । उनकी आत्मा तो सिर्फ अभिनय में बसती थी । एक तरफ घरवालों का विरोध तो दूसरी तरफ भूपेश का एक्टिंग को लेकर जुनून । जाहिर सी बात है इसे लेकर तलवारें खिंचना लाजिमी थीं । तमाम परेशानियों के बावजूद अभिनय के प्रति भूपेश की दीवानगी दिनोंदिन हद के करीब पहुंचती गई। आखिरकार घरवालों ने भी भूपेश की नीतियों को नियति मान लिया। और फिर शुरु हो गया अभिनय का अनवरत सिलसिला। आखिर कैसे भूपेश ने अपनी जिद से रंगमंच की एबीसीडी भी न जानने वाले आदिवासियों के इलाकों में भी रंगमंच को आंदोलन पैदा करने वाली कार्यशाला में तब्दील कर दिया ? आखिर क्यों अपनी सगी बहन की शादी जैसे पावन मौके पर भी भूपेश शरीक न हो पाए, जिससे घरवाले आगबबूला हो गए । इन सब सवालों का जवाब जानने के लिए आपको ये पूरा इंटरव्यू पढ़ना होगा । क्योंकि ‘ग्राउंड ज़ीरो’ ने की है रंगमंच के इस पुरोधा की बारीकी से तहक़ीकात ।

सवाल- सबसे पहले आप अपने बारे में बताइए ।

जवाब- मेरा नाम भूपेश जोशी है। मूलरूप से पिथौरागढ़ के गंगोलीहाट के एक छोटे से गांव चहज का रहने वाला हूं।

सवाल- शुरुआती पढ़ाई-लिखाई कहां से हुई ?

जवाब- गवर्नमेंट इंटर कॉलेज, चहज से ही हाईस्कूल और इंटमीडियट कंपलीट किया । आगे की पढ़ाई के लिए पीजी कॉलेज, पिथौरागढ़ में दाखिला लिया ।


सवाल- आपको ये कब और कैसे पता लगा कि अभिनय नाम की कोई चीज भी होती है , फिर धीरे-धीरे उसके लिए इच्छा पैदा होन लगी हो ?

जवाब- स्कूल के शुरुआती दिनों में ये तो मैं बिल्कुल नहीं जानता था कि अभिनय किस चिड़िया का नाम है। न कभी इससे पाला पड़ा था । लेकिन जैसे- जैसे हाईस्कूल हुआ फिर इंटरमीडियट में पहुंचा, मानसिक स्तर बढ़ा तो पहला परिचय रामलीला से हुआ । हर साल हमारे गांव में रामलीला का आयोजन होता था। धीरे-धीरे रामलीला को लेकर लगाव बढ़ता गया । फिर छोटे-छोटे रोल मिलने लगे। यहां से दिमाग में ये चीज आने लगी कि ये जो हम कर रहे हैं इसे ही अभिनय कहा जाता है।

सवाल- रामलीला से अभिनय की शुरुआत तो हो गई लेकिन अभिनय को लेकर अब अगला पड़ाव क्या था ?

जवाब- पीजी कॉलेज, पिथौरागढ़ में एडमिशन लिया तो वहां की ड्रामा सोसायटी ‘थात’ के बारे में पता चला। ड्रामा डिपार्टमेंट के हेड डॉ. मृगेश पांडे से परिचय हुआ। इसके अलावा सतीश जोशी और निर्मल शाह से भी मुलाकात हुई जो कि इसी ड्रामा सोसायटी से जुड़े थे । ‘थात’ संस्था से जुड़कर इन लोगों के मार्गदर्शन में पढ़ाई के साथ-साथ नाटकों में पार्टिसिपेट करना लगा।लगातार काम करता रहा । बात सन् 1993 की है जब इसी संस्था की तरफ से मुझे पहली बार किसी बड़े नाटक में मेन रोल करने का मौका मिला । नाटक का नाम था ‘राजकुंवर’ जिसमें मैं ने एक फौजी का किरदार निभाया । शरदोत्सव समारोह में नाटक का मंचन हुआ जिसे दर्शकों ने खूब सराहा । वहां से मेरा आत्मविश्वास और बढ़ने लगा ।

सवाल- शायद अभी तक कहीं-न-कहीं आप करियर को लेकर दोराहे पर खड़े थे क्योंकि कॉलेज की पढ़ाई के साथ-साथ नाटकों में रोल कर रहे थे ?  आपको कब लगा कि अब मेरी मंजिल सिर्फ अभिनय होगी ?

जवाब- कॉलेज पूरा होने के बाद पिथौरागढ़ में कई सालों तक नाटक करता रहा । इस दौरान कई नुक्कड़ नाटक भी किए । उस दौरान ‘उत्तरायणी’ और ‘वेदना’ इन दो नाटकों ने बड़ी ख्याति दिलाई । ‘वेदना’ में ‘हरदा शास्त्री’ का रोल मेरे लिए माइलस्टोन साबित हुआ । जहां से अब मेरे दिल ने गवाही दे दी कि अब तो मेरी मजिल सिर्फ अभिनय होगी। संयोग की बात देखिए उन्हीं दिनों सन् 1996 में पिथौरागढ़ में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) की वर्कशॉप लगी। वर्कशॉप की पूरी जिम्मेदारी रामगोपाल बजाज और देवेंद्र राज अंकुर के कंधों पर थी।मैं ने वर्कशॉप में हिस्सा ले लिया । सुबह 8 बजे लेकर रात 8 बजे तक, 12-12 घंटे हम लोग अभिनय की बारीकियां सीखते । वाइस मॉड्यूलेशन, फेशियल एक्सप्रेशन, रीडिंग, केरेक्टराइजेशन पर काम करते । इस वर्कशॉप में मनोहर श्याम जोशी का लिखा हुआ नाटक ‘कसप’ तैयार हुआ । जिसमें मैंने ‘बब्बन’ का रोल किया। लोगों ने खूब सराहा ।


सवाल- नाटकों में काम करने को लेकर घरवालों का क्या रिएक्शन था ?

जवाब- मैं एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखता हूं। मेरे से पहले मेरे परिवार में इस तरह की एक्टिविटीज न किसी ने की थी और न ही मेरे अलावा कोई कर रहा है । उन लोगों का अभिनय या रंगमंच से दूर-दूर तक कोई लेनादेना नहीं था । पिताजी अध्यापक थे। वो चाहते थे कि मैं इंजीनियर बनूं लेकिन मुझे एक्टिंग में मजा आता था। इसीलिए विरोध होना लाजिमी था सो हुआ । घरवाले नहीं चाहते थे मैं ड्रामा या नौटंकी करूं । मनमुटाव का आलम ये हो जाता था कि कई दिनों तक घरवालों से बात तक नहीं होती थी।

सवाल- भारतेंदु नाट्य एकेडमी (लखनऊ) जो कि आपकी मातृसंस्था है, जहां से आपने सही मायने में अभिनय की बारीकियां सीखीं। एक्टिंग के इतने रेप्यूटेड संस्थान में एडमिशन कैसे  मिला ?

जवाब- पिथौरागढ़ में लगभग 4-5 सालों में कई बड़े नाटक कर लिए थे। पढ़ाई पूरी हो चुकी थी । करियर को लेकर घरवालों का दबाव था । इस दौरान एक बड़ा इंट्रस्ट्रिंग वाकया हुआ । मैं ने सोचा नाटक करने के साथ क्यों न कोई छोटा-मोटा कोई कोर्स कर लिया जाए। घर के पास ही मैं ने एक कंप्यूटर का कोर्स करना शुरु कर दिया ।अभी कुछ ही दिन हुए थे कि कंप्यूटर सिखाने वाले को पता चला कि मैं नाटकों में भी काम करता हूं। उसने कहा तुम कंप्यूटर सीखना छोड़ो मैं कुछ स्टूडेंट्स का जुगाड़ करता हूं तुम उन्हें ट्रेंड करो और नाटक करो। मैं राजी हो गया । 20 से 25 की तादाद में स्टूडेंट्स इकट्ठा हो गए । नाटक तैयार हुआ उसका शानदार तरीके से मंचन हुआ । सन् 1997 में राष्ट्रय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) और भारतेंदु नाट्य एकेडमी दोनों के लिए एप्लाई किया । एनएसडी में सिलेक्शन नहीं हुआ लेकिन भारतेंदु नाट्य एकेडमी में एडमिशन मिल गया।

सवाल- अब तक आप शौकिया थियेटर करते थे लेकिन बीएनए में एडमिशन के बाद अब आपको एक कोर्स के रूप में बाकायदा एक्टिंग की पढ़ाई करनी थी । जहां आपको अभिनय की बारीकियां सिखाने वाले दिग्गज भी मिले होंगे । क्योंकि कहीं-न-कहीं अब आप एक्टिंग को ही करियर के रूप में देख रहे थे । बीएनए में आने से पहले और बीएनए में आने के बाद दोनों के बीच का जो अंतर था उसे कैसे एडजस्ट किया आपने ?

जवाब- जी बिल्कुल अब हमें रंगमंच का विधिवत नॉलेज लेना था । जिसमें थ्योरी और प्रैक्टिकल दोनों शामिल था । बीएनए में बीएम शाह, मोहन महर्षि, जुगल किशोर, हेमेंद्र भाटिया, उर्मिल थपलियाल, सी आर जांबे, अनामिका हक्सर ये सभी लोग हमारे एक्टिंग के गुरु होते थे। जो अभिनय निखारने के लिए छोटी-छोटी चीजों पर काम करवाते थे। मुझे स्टेज पर चरित्र को निभाने में हमेशा मजा आता था इसलिए ज्यादा दिक्कत नहीं हुई। कई बार कोई रोल ठीक से नहीं होता था तो निराश ज़रूर हो जाता था लेकिन एक कलाकार होने के नाते रोल को लेकर हमेशा मन में लालच होता था कि अगर ये ठीक से नहीं हुआ तो रोल हाथ से चला जाएगा। इसलिए जी तोड़ मेहनत करते थे । अनामिका हक्सर की एक्टिंग क्लास का बेसब्री से इंतजार रहता था क्योंकि वो हमेशा कुछ नया टास्क करवाती थीं जो कि चैलेंजिंग होता था ।

सवाल- बीएनए से 2 साल का पीजी कोर्स पूरा होने के बाद क्या रणनीति रही आपकी ?

जवाब- कोर्स पूरा होने के बाद स्कॉलरशिप मिलनी बंद हो गई । खर्चे के लिए पूरी तरह से घरवालों पर निर्भर था । अब मेरे सामने दो विकल्प थे । या तो मैं बीएनए की रेपेटरी कंपनी ज्वाइन कर लूं जिसके बदले मुझे हर महीने पारिश्रमिक मिलता या फिर उस दौरान एक स्कीम के तहत आदिवासी इलाकों में जाकर थियेटर को बढ़ावा देना था लेकिन इसके बदले कोई पारिश्रमिक नहीं मिलता । मैं ने रेपेटरी कंपनी का मोह छोड़कर दूसरे वाले विकल्प को चुना क्योंकि ये मुझे ज्यादा चैलेंजिंग काम लगा ।

सवाल- आदिवासी इलाके में जाकर आदिवासियों के साथ थियेटर करना, उसको बढ़ावा देना कितना मुश्किल भरा काम रहा ?

जवाब- इस स्कीम के तहत हमें बुंदेलखंड के ललितपुर जिले के एक बीहड़ इलाके में भेजा गया । मैं और मेरे साथ मेरे एक सीनियर प्रणवीर सिंह थे । पहली बार जब आदिवासी इलाके में पहुंचे तो आदिवासियों का संघर्षपूर्ण जीवन देखकर हम अंदर तक हिल गए । बच्चों को अच्छी तालीम देना तो बहुत दूर की बात थी महज दो जून की रोटी के लिए वो लोग तपती धूप में 18-18 घंटे काम करते थे । उनका शोषण किया जा रहा था । उन लोगों को लेकर रंगमंच करना और बढ़ावा देना और उनसे रंगमंच के बारे में बातचीत करना भैंस के आगे बीन बजाने जैसे था । क्योंकि उनमें से ज्यादतर अनपढ़ थे और जो शिक्षित भी थे आखिर उन्हें थियेटर जैसी विधा से क्या लेना देना । लेकिन हम लोगों ने हार नहीं मानी और साम-दाम, दंड-भेद सारे तरीके अपनाए । हमनें प्रण कर लिया कि अब आएं हैं तो नाटक तो करके ही जाएंगे । कड़ी मेहनत के बाद हम कुछ लोगों को मनाने में कामयाब हो गए और वो लोग भी हमारे साथ काम करने को राजी हो गए । लेकिन सबसे बड़ी समस्या आयी भाषा को लेकर। उन लोगों को हिंदी बिल्कुल भी नहीं आती थी । इसलिए हमनें नाटक का अनुवाद बुंदेलखंडी में कराया। नाटक के जरिए हमनें उनके अधिकारों की बात की। उनके शोषण के खिलाफ आवाज़ उठायी। और नाटक का टाइटल तैयार किया- ‘जब जगो तबे भुनसारो’ । नाटक की रिहर्सल के दौरान कई बार गांव के जमींदारों ने विरोध किया और नाटक रुकवा दिया। लेकिन जैसे-तैसे नाटक तैयार हुआ। पहला शो ललितपुर में हुआ । दूसरा शो लखनऊ में एक समारोह में हुआ जो कि हिट रहा । इत्तेफाक देखिए जिस दिन इस नाटक का मंचन होना था उसी दिन मेरी इकलौती सगी बहन की शादी थी । मैं चाहकर भी शादी में शरीक नहीं हो पाया । जिसे लेकर घरवालों से मनमुटाव बहुत ज्यादा हो गया था । लेकिन मैं मजबूर था क्या करता । क्योंकि मेरा शुरु से ही फलसफा रहा है चाहे कुछ भी हो जाए लेकिन – शो मस्ट गो ऑन

सवाल- लखनऊ से दिल्ली पहुंचे तो श्रीराम सेंटर रंगमंडल से जुड़े, 11 सालों तक यहां की रेपेटरी में रहे, बड़ा लंबा वक्त बिताया आपने यहां पर ?

जवाब- आदिवासियों के साथ थियेटर करने के बाद मैं लखनऊ वापस आ गया। बीएनए रेपेटरी के लिए मैं पहले ही मना कर चुका था। अब मेरे पास कोई काम नहीं था और न ही आय का कोई स्रोत । मुफलिसी के इस दौर में बीएनए के ही ललित सिंह पोखरिया ने मेरी बड़ी मदद की । 6 महीने तक मैं उनके घर पर रहा । उनका भरपूर सपोर्ट मिला । जून 2000 में दिल्ली के श्रीराम सेंटर रेपेटरी में मेरा सिलेक्शन हो गया । अब मुझे दिल्ली में अपने आपको साबित करना था । क्योंकि दिल्ली एक तरीके से रंगमंच का गढ़ है । थियेटर के बड़े-बड़े दिग्गजों से सामना हुआ । मेहनत रंग लाई और SRC  रेपेटरी का मेरा पहला नाटक ‘कैपिटल एक्सप्रेस’ का मंचन हुआ । जिसे चितरंजन त्रिपाठी ने निर्देशित किया था। नाटक देखने के बाद लोगों ने कहा- हां दिल्ली में कोई एक्टर आया है ।


सवाल- SRC के कुछ बड़े निर्देशकों के नाम बताइए जिनके साथ आपने काम किया ?

जवाब- इनमें मुश्ताक काक, चितरंजन त्रिपाठी, अवतार साहनी, राजेंद्र नाथ, चेतन दातार, अनिरुद्ध खूटवार्ड, नौशाद मोहम्मद, रोविजिता गोगोई, उर्मिल थपलियाल, समीप सिंह, लईक हुसैन, बहरुल इस्लाम ।

सवाल- SRC  रेपेटरी के कुछ बड़े नाटकों के नाम बताइए जिनमें आपने अभिनय किया ?

जवाब- राम सजीवन की प्रेमकथा, आंखमिचौली, टीन की तलवार, मार्टीगाड़ी, कन्यादान, हयवदन, शोभायात्रा, डॉक्टर आप भी, मैं मंटो हूं, एक गधे की आत्मकथा, अरे- मायावी सरोवर, दिल्ली-6, मुझे अमृता चाहिए, जिस लाहौर नहीं देख्या, एक शाम स्मितापा के नाम, अलग-अलग कमरे, मांस का दरिया, बस दो चम्मच औरत, नंगे पांव के निशान आदि।

सवाल- अभिनय का इतना लंबा-चौड़ा तज़ुर्बा होने के बावजूद आप मायानगरी मुंबई क्यों नहीं गए ?  क्या फिल्मों की चकाचौंध आपको आकर्षित नहीं करती ?

जवाब- ऐसा नहीं है मैं ने बॉलीवुड की कई फिल्में की हैं, कई सीरियल्स किए। दिल्ली से ही मेरी कास्टिंग हो गई । लेकिन सच बताऊं रंगमंच छोड़कर मुंबई जाने का कभी ख्याल ही नहीं आया। अभिनय करना है वो मैं दिल्ली में रहकर भरपूर कर रहा हूं। मेरी आत्मा रंगमंच में बसती है, स्टेज में बसती है।

सवाल- कुछ फिल्मों और सीरियल्स के नाम बताइए जिनमें आपने अभिनय किया ?

जवाब- फिल्में हैं- पिंजर, अमल, चिंटू जी, किस्मत लव पैसा दिल्ली
सीरियल्स हैं- दहलीज (स्टार प्लस), तुम देना साथ मेरा, क्योंकि जीना इसी का नाम हैं, हवाएं आदि।

सवाल- आप दिल्ली में एक थियेटर ग्रुप भी चलाते हैं। जिसका नाम है ‘गाथा’। इसके बारे में बताइए।

जवाब- सन् 2004 में ये ग्रुप बनाया ‘GATHA’ जिसका पूरा नाम है ‘गढ़ ऑफ आर्ट्स थियेटर एंड ह्यूमन एक्विटीज’ । इसके जरिए उन रंगकर्मियों को प्लेटफॉर्म मुहैया कराना था जो रंगमंच करने के इच्छुक हैं और इस क्षेत्र में बिल्कुल नए हैं । इस ग्रुप के अब तक करीब 15 नाटकों का देश के कई बड़े शहरों में सफल मंचन हो चुका है । जिनमें ‘कगार की आग’, ‘चारूदत्त’, ‘डाकघर’, ‘नौटंकी राजा’, ‘अरे- मायावी सरोवर’, ‘इंद्रपुरी में हलचल’, ‘आषाढ़ का एक दिन’ आदि हैं। इनमें से कई नाटकों को साहित्य कला परिषद की ओर से कई नाट्य समारोहों में सम्मानित भी किया जा चुका है । इस ग्रुप से तालीम लेकर अब तक करीब 150 युवा रंगकर्मी अलग-अलग जगहों पर रंगकर्म के क्षेत्र में काम कर रहे हैं।


सवाल- हमनें सुना है आप बच्चों के लिए भी एक्टिंग की वर्कशॉप चलाते हैं ।

जवाब- ये श्रीराम सेंटर फॉर परफॉर्मिंग आर्ट्स का वीकेंड कोर्स है जिसमें बच्चों को अभिनय का कोर्स कराया जाता है । ये पूरी तरीके से प्रोडक्शन ओरियंटेड कोर्स है। मेरी देखरेख में अब तक एक्टिंग के 10 बैच पास आउट हो चुके हैं ।

सवाल- पिछले दिनों आपका सोलो नाटक ‘मैं, अभिनेता और वो’ काफी चर्चित रहा जिसमें मुख्य भूमिका आपने खुद निभायी है। इसके बारे में बताइए ।

जवाब- इस नाटक के जरिए एक कलाकार के संघर्षपूर्ण जीवन का मर्म दर्शाया गया है। आखिर कलाकार को अपने लक्ष्य को पाने के लिए किन-किन विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है । साहित्य कला परिषद की ओर से इसका मंचन भरतमुनि नाट्य समारोह में करवाया गया ।


सवाल- इतनी उपलब्धियां मिलने के बाद अब घरवालों का क्या रवैया रहता है ?

जवाब- घरवालों ने सिर्फ शुरुआती दौर में विरोध ज़रूर किया था लेकिन जब उनको इस बात का अहसास हो गया कि मैं अपने फैसले से पीछे नहीं हटूंगा फिर उन्होंने भरपूर सहयोग किया।  माता और पिताजी ने मेरा हर कदम पर साथ दिया। अब सभी लोग खुश हैं।

सवाल- अगर कोई आपसे संपर्क करना चाहे तो कैसे जुड़े ?

जवाब- फेसबुक पर मैं BHUPESH JOSHI  के नाम से मौजूद हूं । कोई भी संपर्क कर सकता है ।

सवाल- ‘ग्राउंड ज़ीरो’ के बारे में क्या कहेंगे ?

जवाब- बहुत ही शानदार पहल है। भविष्य के लिए हार्दिक शुभकामनाएं ।
                                                                                                                   साभार- ग्राउंड ज़ीरो

(ग्राउंड ज़ीरो के अगले एपिसोड में पढ़िए मिसाल कायम करने वाले एक और धमाकेदार शख्स का इंटरव्यू, जो होगा हमारे और आपके बीच का )

(अगर आपके पास भी है किसी ऐसे शख्स की कहानी जिसने किया है सोचने पर मजबूर। वो आप खुद भी हो सकते हैं, आपका कोई जानने वाला हो सकता हैं, आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार भी हो सकता है। तो आप हमें बताइए। हम करेंगे ‘ग्राउंड ज़ीरो’ से पड़ताल और छापेंगे उसकी मिसालभरी दास्तां। देखेंगे दुनिया उसकी नज़र से। )  

संपर्क-
ई-मेल कीजिए: vdvishaldubey175@gmail.com
  
फॉलो कीजिए:
 ब्लॉग-      http://vishaldubeyaka3d.blogspot.in/

Facebook:  https://www.facebook.com/vishal.dubey.9256

Twitter:     https://twitter.com/Dubey3d

फोन कीजिए: +91 8800 777 275 , 7838 927 462

Thursday, February 2, 2017

मीडिया से 'मिडवे' तक का सफर... जब किसी के सपने मर जाए...पढ़िए विनय पांडे की संघर्षभरी दास्तान

 ‘ग्राउंड ज़ीरो’ के तीसरे एपिसोड में पढ़िए विनय पांडे की कहानी ।  कहते हैं ‘सबसे खतरनाक होता है सपनों का मर जाना’ लेकिन जब ये कहावत वाकई में किसी इंसान के लिए सच साबित हो जाए तो ज़रा सोचिए उस इंसान पर क्या बीतती होगी । आज हम आपको एक ऐसे ही शख्स से रूबरू करवाएंगे जिनके सपनों की उड़ान ने परवाज़ भरना शुरु तो किया लेकिन उसके मुकम्मल मंज़िल तक पहुंचने से पहले ही मजलूम वक्त ने बेरहमी से उसके पर कतर दिए । विनय पांडे उन्हीं लोगों में से एक हैं, जो दिल से पत्रकारिता करना चाहते थे। बाराबंकी के छोटे से कस्बे से दिल्ली आने का उनका एक ही मकसद था पत्रकार बनना । पढ़ाई करने के बाद मनपसंद फील्ड में काम भी मिल गया । पैशन को प्रोफेशन बनाया । सब कुछ सही चल रहा था लेकिन अचानक न जाने किसकी नज़र लगी कि तीन साल की नौकरी के बाद ही इस्तीफा देना पड़ा । उम्र के जिस पड़ाव पर लोग मंज़िलरूपी जीवन की बुनियाद रखना शुरु करते हैं उस उम्र में विनय को बोरिया-बिस्तर समेटकर अपने गांव लौटना पड़ा । विनय एक ऐसे धर्मसंकट में पड़ गए थे जहां पर डिसीजन लेना टेढ़ी खीर साबित हो रहा था । एक तरफ विनय का करियर था जो अभी-अभी शुरु हुआ था और कच्ची कली की भांति जीवन की कोंपलों में से बाहर निकलकर विस्तार करने के लिए व्याकुल था तो दूसरी तरफ गांव में विनय के घर पर कुछ ऐसी विकट समस्याएं मुंह बाए खड़ी हो गई थीं जिनसे पार पाना विनय के लिए नामुमकिन हो रहा था । आखिर विनय के पिताजी ने ऐसी कौन सी गलती की कि बेटे को पसंदीदा करियर को ही दांव पर लगाना पड़ गया । आखिर ऐसी कौन सी सामाजिक प्रतिष्ठा को बचाने के लिए विनय ने अपने सपनों की बलि चढ़ा दी, और फिर शुरु हुआ मीडिया से ‘मिडवे’ तक का सफर । जानने के लिए पढ़िए ये पूरा इंटरव्यू । क्योंकि ‘ग्राउंड ज़ीरो’ ने की है पूरी पड़ताल

सवाल- सबसे पहले आप अपने बारे में बताइए ।

जवाब- मेरा नाम विनय पांडे है । प्यार से सब वीरु बुलाते हैं । मूलरूप से बाराबंकी के रामसनेहीघाट का रहने वाला हूं।

सवाल- पढ़ाई-लिखाई कहां से हुई ?

जवाब- पटेल पंचायती इंटर कॉलेज से हाईस्कूल और सरस्वती विद्य़ा मंदिर बाराबंकी से इंटरमीडियट किया। लखनऊ यूनिवर्सिटी से हिस्ट्री और इंग्लिश में ग्रेजुएशन किया। नेशनल ब्रॉडकास्ट एकेडमी दिल्ली से मास कम्यूनिकेशन किया ।

सवाल- आपका सपना था एक बड़ा जर्नलिस्ट बनने का, जिसकी शुरुआत भी हुई लेकिन हमेशा-हमेशा के लिए आपने ये फील्ड छोड़ दिया । लोग अपने सपनों को पूरा करने के लिए सब कुछ दांव पर लगा देते हैं लेकिन आपको ऐसा क्या पाना था कि आपने अपने सपनों को ही दांव पर लगा दिया ? क्योंकि एक बार नौकरी पकड़ने के बाद लोगों के लिए इसे छोड़ना बड़ा मुश्किल होता है वो भी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जैसे फील्ड में । ऐसी भी क्या मजबूरी थी ?

जवाब- जब मैंने 2014 में नौकरी छोड़ी तो उसे लेकर भड़ास4मीडिया ने एक पोस्ट छापी कि ‘विनय पांडे ने मीडिया छोड़ शुरु किया ढाबा’। उस स्टोरी को पढ़कर लोगों को लगा कि मुझे मीडिया रास नहीं आया इसलिए उसने मीडिया को छोड़कर ढाबे का कारोबार शुरु किया । लेकिन सच बताऊं पत्रकारिता मेरा पहला प्यार है । ये सच है कि आज मीडिया की हालत दयनीय है लेकिन उसके बावजूद में डटे रहकर इसी क्षेत्र में कुछ करना चाहता था। क्योंकि ये मुझे दिल से अच्छा लगता था । लेकिन कुछ ऐसी पारिवारिक समस्याओं ने मुझे घेरा कि अपने करियर को ही दांव पर लगाना पड़ा।


सवाल- आखिर क्या थी वो मजबूरी जिसकी वजह से आपको दिल्ली छोड़कर बैक टू बाराबंकी जाना पड़ा ?

जवाब- घर पर खेतीबाड़ी काफी है, चाहता तो घर पर ही रहकर खेती करता तो भी आराम से गुजारा हो जाता लेकिन जुनून था पत्रकारिता करने का सो दिल्ली चला आया । मेरे पिता मेरे आदर्श हैं लेकिन उनकी एक बुराई हमारे ऊपर बहुत भारी पड़ गई । दरअसल उन्हें शराब पीने की बुरी लत है। जिसकी वजह से हमारे गांव की ज़मीन का एक बड़ा हिस्सा उन्होंने औने-पौने दामों में बेच दिया और जो बची उसे पास के ही एक जानने वाले को (नाम का ज़िक्र नहीं करना चाहता) ढाबे के लिए एग्रीमेंट कर दी । ये बात पता चलते ही मेरे पैरों तले ज़मीन खिसक गयी। दिनोंदिन चिंता खाए जा रही थी। पूरे इलाके, समाज और रिश्तेदारी में बदनामी हो रही थी सो अलग । आखिर हमारे पुरखों की ज़मीन हाथ से जो जा रही थी। ज़मीन हमारी माता है, हमारी पहचान है, हमारी जड़ है, जीविका और घर-परिवार चलाने का ज़रिया है । जब वो ही नहीं रहेगी तो आखिर हम लोग ज़िंदा कैसे रहेंगे । एक तरफ करियर के शुरुआती दौर में दिल्ली में संघर्ष तो दूसरी तरफ बाप-दादा की हाथ से निकलती ज़मीन को देखकर मेरी मानसिक स्थिति खराब सी हो गई । इस महासंकट से निकलना नामुमकिन हो रहा था। मैं बड़े धर्मसंकट में पड़ गया । आखिर क्या किया जाए । जब तक नौकरी नहीं मिली थी तो रिश्तेदार ताने मारते थे अब जब नौकरी मिली तो वही रिश्तेदार फिर ताने मारने लगे कि बताओ इधर घर लुट रहा है उधर बेटा दिल्ली में नौकरी कर रहा है । ये नहीं नौकरी छोड़ के पहले घर संभाले । काफी सोच विचार कर दिल पर पत्थर रखकर करियर को दांव पर लगाना पड़ा।


सवाल- कैसे आपने हालात पर काबू पाया ? क्या खोई हुई ज़मीन वापस लाने में सफल हुए  ?

जवाब- दिल्ली से गांव पहुंचा तो घर की आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो गई थी । पिताजी सारी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ चुके थे । मैं अकेला और परेशानियां अनेक । या तो मैं भी सरेंडर कर देता या फिर उन परेशानियों का डटकर मुकाबला करता । सो मैंने हिम्मत जुटायी और लग गया उनसे दो-दो हाथ करने में। इतनी कम उम्र में परेशानियों का ऐसा पहाड़ देखकर दिल दहल जाता था । लेकिन मैं हार मानने वाला नहीं था । रात-दिन एक कर दिए मैंने अपनी खोई हुई ज़मीन वापस पाने के लिए । सबसे पहले ढाबे वाली ज़मीन को छुड़ाने की कोशिश में लग गया । एग्रीमेंट पूरा होने के बावजूद वो लोग ज़मीन छोड़ने को राजी नहीं थे । बाहुबली होने का पूरा फायदा उठाया उन्होंने । हमारी कोई गलती न होने के बावजूद उन लोगों ने ज़मीन वापस देने के लिए 25 लाख रुपए की डिमांड कर दी । 25 रुपए जुटाना मुश्किल था हमारे लिए उस वक्त भला 25 लाख कहां से लाते। लेकिन साम-दाम, दंड-भेद सारे तरीके अपनाकर पैसों का जुगाड़ किया। उन दिनों को यादकर मुझे आज भी सिहरन होती है । एक-एककर सारी खोई हुई जायदाद वापस ली । फिर खेती करना शुरु किया। धीरे-धीरे हालत सुधरने लगे । पिताजी को उनके खर्चे के लिए हर रोज 100 रुपया अलग से देने लग गया ।

सवाल- अब तो आपने अपना ढाबा भी शुरु कर लिया है जिसका नाम है ‘मिडवे’ । काफी बड़ी संख्या में वर्कर भी आपके ढाबे में काम करते हैं । जिनको मेहनताना भी आप देते हैं । जरा बताइए इस ढाबे के बारे में ।


जवाब – एग्रीमेंट वाली जो जमीन हमनें वापस ली वो कई सालों से खाली पड़ी हुई थी । उस पर खेती का काम नहीं हो रहा था । हाईवे के किनारे होने की वजह से हमनें सोचा क्यों न इस पर ढाबा खोला जाए । आइडिया सबको पसंद आया और हो गया काम शुरु । नाम दिया गया ‘मिडवे यात्री प्लाजा’ । ये ढाबा रामसनेहीघाट के पास हाईवे पर है । आप कभी भी आइए आपका स्वागत है । हमने परिवहन विभाग से बात की तो पांच साल के लिए हमारे इस ढ़ाबे को उत्तर प्रदेश सरकार ने अनुबंधित भी कर लिया है । फैजाबाद से लखनऊ जाने वाली सभी सरकारी बसें हमारे इस ढाबे पर रुकती हैं। हम बस के सभी स्टाफ को खाना खिलाते हैं और प्रति बस 25 रुपया सरकार को देते हैं । जो कि पिछले 2 सालों से चल रहा हैं । अगली प्लानिंग इसी ढाबे के बगल में मेरिजलॉन बनवाने की हैं ।

सवाल- इतना सब कुछ होने के बाद क्या आप पिताजी से नाराज हुए  ?

जवाब- नाराज होकर क्या करूंगा आखिर मेरे पिताजी हैं वो । बल्कि वो ही मेरे से नाराज रहते हैं । और उनकी ये नाराजगी तब से है जब वो चाहते थे कि मैं बीएससी की पढ़ाई करूं लेकिन मैने बीए किया। एक बार तो उन्होंने इतना डांटा कि मैं नाराज होकर 18 साल की उम्र में मुंबई भाग गया।

सवाल- शुरुआती दौर में आपने दिल्ली में किन-किन न्यूज़ चैनलों में काम किया ?

जवाब- मैंने mh1 न्यूज़, इंडिया न्यूज, समाचार प्लस, न्यूज़ एक्सप्रेस में काम किया ।

सवाल- कुछ ऐसे लोगों के नाम बताइए जिन्होंने इस मुसीबत के दौरान आपकी सहायता की हो । आर्थिक रुप से न सही लेकिन मानसिक रुप से समझाया-बुझाया हो । आपके इस फैसले में आपके साथ रहे हो ।

जवाब- दिल्ली में पत्रकारिता करने के दौरान जिन लोगों ने मुझे सपोर्ट किया उनमें निखिल कुमार दूबे, आज तक के अनिल सिंह, इसके अलावा अतुल अग्रवाल और अमित सिंह ने बड़ी सहायता की । निखिल सर हर फैसले में मेरे साथ खड़े थे। हमेशा मार्गदर्शक की तरह काम किया ।

सवाल- मौका मिला तो क्या दोबारा मीडिया में आना चाहेंगे  ?

जवाब- बिल्कुल, भला ये भी कोई पूछने की बात है । आखिर पत्रकारिता मेरा पहला प्यार है । मैं कुछ भी हासिल कर लूं, कितना भी सफल क्यों न बन जाऊं लेकिन पत्रकारिता के बिना जीवन अधूरा है ।

सवाल- अगर कोई आपसे जुड़ना चाहे तो कैसे संपर्क कर सकता है ?


जवाब- मेरी ई-मेल आईडी vinay.panday1089@gmail.com के जरिए संपर्क कर सकता है ।

सवाल- ‘ग्राउंड ज़ीरो’ के बारे में क्या कहना चाहेंगे ?

जवाब- बहुत अच्छी पहल है जो आप लोग ऐसे लोगों की कहानियों को छाप रहे हैं, जिनके बारे में लोग नहीं जानते हैं लेकिन उनके बारे में जानना ज़रूरी है।  क्योंकि पता नहीं किस व्यक्ति के जीवन से किस को क्या सीख मिल जाए ।
                                                                                                             साभार- ग्राउंड ज़ीरो
(ग्राउंड ज़ीरो के अगले एपिसोड में पढ़िए मिसाल कायम करने वाले एक और धमाकेदार शख्स का इंटरव्यू, जो होगा हमारे और आपके बीच का )

(अगर आपके पास भी है किसी ऐसे शख्स की कहानी जिसने किया है सोचने पर मजबूर। वो आप खुद भी हो सकते हैं, आपका कोई जानने वाला हो सकता हैं, आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार भी हो सकता है। तो आप हमें बताइए। हम करेंगे ‘ग्राउंड ज़ीरो’ से पड़ताल और छापेंगे उसकी मिसालभरी दास्तां। देखेंगे दुनिया उसकी नज़र से। )  

संपर्क-
ई-मेल कीजिए: vdvishaldubey175@gmail.com

फॉलो कीजिए:

ब्लॉग-      http://vishaldubeyaka3d.blogspot.in/

Facebook:  https://www.facebook.com/vishal.dubey.9256

Twitter:     https://twitter.com/Dubey3d

फोन कीजिए: +91 8800 777 275 , 7838 927 462

Wednesday, January 18, 2017

‘’ताकि उन्हें भी सुकूं की नींद आ जाए’’... संजय सेज की अनूठी पहल



  ग्राउंड ज़ीरो के दूसरे एपिसोड में पढ़िए संजय सेज की कहानी । संजय का परिचय तो साधारण है लेकिन उपलब्धि बड़ी । सा इसलिए क्योंकि इनकी एक कोशिश ने सै कड़ों असहाय और बेघर परिवारों को मुस्कराने की वजह दी है । यकीन मानिए अगर किसी इंसान की वजह से वक्त से मजलूम चेहरे पर हंसी की कांतिमयी छटा बिखर जाए तो भला उससे ज्यादा खुशकिस्मत और कौन होगा । खुशकिस्मती का यह सिलसिला 2014 से शुरु हुआ, जब संजय ने ‘Sage Sweater Collection Drive’ नाम से एक इवेंट शुरु किया । जिसका मुख्य मकसद था से लोगों की मदद करना जो सर्दियों में फुटपाथ पर सोने को मजबूर हैं । सर्द रातों में धरती जिनका बिस्तर होती है और आसमां जिनका छत । से लोग जिन्हें दिनभर की कमरतोड़ मेहनत के बाद खाने के लिए किसी तरह 2 जून की रोटी तो नसीब हो जाती है लेकिन कंपकंपाती ठंड से बचने के लिए बस भगवान का ही आसरा होता है । दिसंबर-जनवरी की हाड़-मांस कंपाने वाली ठंड में जहां हिंदुस्तान का एक तबका रात को रजाई के अंदर सुकून की नींद ले रहा होता है, वहीं कुछ लोग परिवार सहित सड़क किनारे सोना तो दूर की बात तन ढकने को भी मजबूर होते हैंसे असहाय लोगों के लिए संजय बनकर आए मसीहा । इन्होंने गरीब लोगों को कपड़े बांटने की मुहिम शुरु की जो कि इंसान की बेसिक ज़रुरतों में से एक है । सर्दियों के आने की आहट के साथ ही संजय और इनकी टीम चौकन्नी हो जाती है । ये लोग घर-घर जाकर लोगों से गर्म कपड़े इकट्ठा करते हैं । सोशल मीडिया पर मुहिम चलाकर भी गर्म कपड़े इकट्टा किए जाते हैं । पर्याप्त कपड़े इकट्ठा होने के बाद संजय की अगुवाई में सेज की पूरी टीम रात को दिल्ली-एनसीआर की सड़कों पर इन्हें बांटने की मैराथन मुहिम चलाती है । असहाय लोगों को गर्म कपड़े और कंबल बांटे जाते हैं ताकि वो भी चैन से सो सकें। कैसे इस मुहिम की शुरुआत हुई, कहां तक पहुंची है ये मुहिम, कैसे इस मुहिम से जुड़े मास्टर शेफ इंडिया के रिपुदमन हांड ? इन सब सवालों के जवाब बताएंगे, क्योंकि इस पूरी मुहिम की ग्राउंड ज़ीरो ने की है पड़ताल । पेश है इस स्वेटर कलेक्शन ड्राइव को चलाने वाले संजय सेज से ग्राउंड ज़ीरो की पूरी बातचीत

सवाल- अपने बारे में बताइए ।

जवाब- मेरा नाम संजय तिवारी है लेकिन इस मुहिम से इतना लगाव हो गया है कि सेज ने तिवारी को रिप्लेस कर दिया । मूल रूप से यूपी के ललितपुर का रहने वाला हूं। शुरुआती पढ़ाई-लिखाई वहीं से हुई। हायर एजुकेशन के लिए दिल्ली का रुख किया ।

सवाल- Sage Sweater Collection Drive का ख्याल कैसे आया ?

जवाब- दिल्ली में ऐसे लोगों की तादाद बहुत ज्यादा है जो सड़क किनारे गुज़र-बसर कर रहे हैं । आप रेलवे स्टेशन पर देखिए, बस अड्डे पर देखिए, मेट्रो स्टेशन के नीचे देखिए । अमूमन राह चलते आपको ऐसे लोग दिख ही जाएंगे जो परिवार सहित ठंड में बाहर रहने को मज़बूर हैं । न रहने को घर है न खाने को खाना। ऊपर से पहनने और ओढ़ने को कपड़ा भी नहीं है। इनकी क्या मज़बूरी है, ऐसा क्यों है, ये सिलसिला कब तक चलेगा ये तो मैं नहीं जानता लेकिन ये सब मैं पिछले कई सालों से देख रहा था। कोई भी ये नजारा देखेगा तो हृदय तो द्रवित होगा ही। मेरा भी होता था । देखकर मन में ख्याल आता कि क्या मैं कुछ कर सकता हूं इनके लिए । फिर ख्याल आता कि मैं कैसे इनकी मदद कर सकता हूं । मेरे पास तो इतने पैसे ही नहीं हैं कि मैं इनको घर दे सकूं, मैं इनको खाना दे सकूं।



सवाल- इस मुहिम की शुरुआत कैसे हुई ?

जवाब- इस घटना को लेकर मेरे मन में जितने भी सवाल चल रहे थे इन सभी सवालों को मैंने मेरी एक दोस्त के सामने रखा। उनका ज़िक्र ज़रूर करना चाहूंगा क्योंकि इस मुहिम का बेसिक आइडिया उन्हीं का है। रीना राय है उनका नाम । उन्होंने सुझाव दिया कि हम इस तरीके की मुहिम शुरु कर सकते हैं । जिसमें हम जरुरतमंद लोगों की मदद कर सकते हैं भले ही हमारे पास खुद की पूंजी न हो । मेहनत तो है इस तरीके के काम करने में लेकिन वाकई अगर आप समाजसेवा के तौर पर कुछ करना चाहते हैं तो बड़ी संतुष्टि मिलती है ये सब करके।

सवाल- इस मुहिम के चार साल पूरे हो चुके हैं । पहले सीजन के बारे में बताइए।

जवाब- पहला सीजन सबसे मुश्किल और चुनौतीभरा रहा। क्योंकि हमारे पास इवेंट को लेकर कोई खास तैयारी नहीं थी। सही खाका नहीं बन पाया था। हम भी नए थे। न कोई टीम थी । सिर्फ मैं और रीना । लोगों को भी हमारे इस मुहिम के बारे में ज्यादा नहीं पता था। और सबसे बड़ी बात ये शायद हमारे लिए एक अनोखा एक्सपेरिमेंट था। क्योंकि हमने भी इससे पहले इस तरीके की मुहिम के बारे में नहीं सुना था ।



सवाल- पहले सीजन के बाद का सफर कैसा रहा ?

जवाब- पहले सीजन में हमने काफी कपड़े डोनेट किए। लोगों की मदद करके हमें बड़ा अच्छा लगा। शुरुआत में हमने नहीं सोचा था कि शायद इसका दूसरा सीजन कर भी पाएंगे लेकिन लोगों ने हमारी इस मुहिम को सराहा। उनका साथ मिला। दूसरे सीजन में मास्टर शेफ इंडिया के चौथे सीजन के विनर रिपुदमन हांडा हमारी इस मुहिम से जुड़े ।







हमारी टीम ने साथ में मिलकर ज़रूरतमंदों को गर्म कपड़े बांटे। इस मुहिम को प्रमोट करने के लिए हमनें सोशल मीडिया का सहारा लिया। जिससे दूर-दूर से लोग हमसे जुड़े। लोगों ने मुहिम को आगे बढ़ाने के लिए आर्थिक मदद भी की। जिसका नतीजा यह हुआ कि लोगों से मिले पैसे से लगभग 20000 रुपए के कंबल बांटे गए। इसी तरह तीसरे सीजन में लगभग 50000 रुपए के गरम कंबल और 15000 इकट्ठे किए गए गरम कपड़े लोगों को बीच वितरित किए।  

सवाल- इस साल इस मुहिम का चौथा सीजन चल रहा है । चार साल पहले चला ये कारवां अब कहां तक पहुंचा है ?

जवाब- चार साल पहले हम सिर्फ दो थे। लेकिन अब हमारे पास कलेक्शन ड्राइव की पूरी टीम बन गई है । जिससे हम ज्यादा से ज्यादा कपड़े इकट्टा करते हैं और ज्यादा से ज्यादा जरुरतमंदों तक पहुंच कर उनकी ठंडी भगाते हैं । लोगों का हमें भरपूर सहयोग मिल रहा हैं । इस बार मल्टीनेशनल कंपनी C-VENT ने तकरीबन 5000 गरम कपड़े जुटाने में मदद की । हमारी टीम ने 15000 से ज्यादा गरम कपड़े बांटे ।

सवाल-  आपका यह इवेंट कहां-कहां पर चल रहा है ?

जवाब- शुरुआत हमने सिर्फ दिल्ली से की थी । लेकिन इस बार दिल्ली समेत नोएडा, गाज़ियाबाद और फरीदाबाद में भी हमनें गर्म कपड़े डोनेट किए । धीरे-धीरे इस मुहिम को देश के दूसरे हिस्सों में भी ले जाने का इरादा है । हम चाहते हैं कि मदद करना एक ट्रेंड बन जाए। हर इंसान उस इंसान की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहे जो ज़रुरतमंद है ।  

सवाल- गर्म कपड़े आप लोग किस-किस दिन बांटते हैं ?

जवाब- हमारी टीम अक्टूबर से कपड़े इकट्ठा करना शुरु कर देती है । दिसंबर के पहले हफ्ते से हम लोग सड़कों पर गरीब और असहाय लोगों को गर्म कपड़े बांटना शुरु कर देते हैं जो कि सर्दियां खत्म होने तक (फरवरी-मार्च) चलता रहता है । लगातार एक हफ्ता बांटने के बाद फिर हम एक हफ्ता कपड़े इकट्ठा करते हैं । जैसे ही पर्याप्त कपड़े होते हैं बांटना शुरु कर देते हैं ।

सवाल- क्या-क्या परेशानियां झेलनी पड़ती हैं इस मुहिम को चलाने में ?

जवाब- कई बार कपड़े इतने ज्यादा इकट्टे हो जाते हैं कि रखने के लिए जगह कम पड़ जाती है । कपड़ों की देखभाल करना ज़रूरी होता है ताकि चूहे वगैरह न काटें । अलग-अलग जगहों पर कपड़े बांटने के लिए गाड़ी की ज़रूरत पड़ती है। जिससे कई बार समस्याओं का सामना करना पड़ता है ।     

सवाल- कपड़े बांटने के दौरान कोई ऐसी असाधारण घटना घटी हो जो आपको याद आ रही हो ?

जवाब- हर दिन कोई-न-कोई घटना घटती ही है । जिन लोगों के बीच हम कपड़े बांटते हैं कई बार वो लोग जल्दी पाने के चक्कर में छीनाझपटी शुरु कर देते हैं । धक्का-मुक्की की नौबत आ जाती है । लेकिन सावधानी बरतते हुए कोशिश की जाती है कि हर उस ज़रूरतमंद शख्स (बच्चे, महिला, बुजुर्ग, अपंग) को गरम कपड़े मिल जाएं जो वहां मौजूद है । कपड़ा पाने के बाद जब उसके चेहरे पर मुस्कान आती है तो वो हमारी तरफ प्यारभरी निगाहों से देखता है तो बड़ी आत्मिक संतुष्टि मिलती है ।

   


सवाल- अगर कोई आपसे या फिर इस मुहिम से जुड़ना चाहे तो कैसे जुड़े ?

जवाब- मेरी ई-मेल आईडी sanjaytiwarisage@gmail.com पर संपर्क कर सकता है या फिर फेसबुक पर हमारे इवेंट के पेज ‘Sage Sweater Collection Drive’ के जरिए भी जुड़ सकता है ।

सवाल- ग्राउंड ज़ीरोके बारे में क्या कहना चाहेंगे ?

जवाब- ग्राउंड ज़ीरो का धन्यवाद । मुझे इस बात की ज्यादा खुशी नहीं है कि मेरा इंटरव्यू छापा 
गया बल्कि खुशी मुझे इस बात की है कि इस खबर के माध्यम से और भी लोग हमारी इस मुहिम से जुड़ेंगे ताकि ज्यादा से ज्यादा गरीब और असहायों की मदद की जा सके ।
                                                     
                                                         साभार- ग्राउंड ज़ीरो

(ग्राउंड ज़ीरो के अगले एपिसोड में पढ़िए मिसाल कायम करने वाले एक और धमाकेदार शख्स का इंटरव्यू, जो होगा हमारे और आपके बीच का )

(अगर आपके पास भी है किसी से शख्स की कहानी जिसने किया है सोचने पर मजबूर। वो आप खुद भी हो सकते हैं, आपका कोई जानने वाला हो सकता हैं, आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार भी हो सकता है। तो आप हमें बताइए। हम करेंगे ग्राउंड ज़ीरो से पड़ताल और छापेंगे उसकी मिसालभरी दास्तां। देखेंगे दुनिया उसकी नज़र से। )   

संपर्क-
ई-मेल कीजिए: vdvishaldubey175@gmail.com
    
फॉलो कीजिए:
 ब्लॉग-      http://vishaldubeyaka3d.blogspot.in/


Twitter:     https://twitter.com/Dubey3d

फोन कीजिए: +91 8800 777 275 , 7838 927 462